30 September, 2016

क्या आप जानते है Cardrona न्यूजीलैंड में है एक ब्रा की बाड़

क्या आप जानते है Cardrona न्यूजीलैंड में है एक ब्रा की बाड़, Cardrona ब्रा की बाड़ केंद्रीय ओटागो, न्यूजीलैंड में एक विवादास्पद पर्यटक आकर्षण है। यह कहानी क्रिसमस 1999 और नए साल के दिन 2000 की है , जब चार ब्रा बाड़ पर लटक रहे थे। 

बाड़ धीरे-धीरे एक प्रसिद्ध स्थल के रूप में जाना जाने लगा और ब्रा की संख्या सैकड़ों तक बढ़ गई। यह अभी भी अज्ञात है यह एक जानकारी मात्र है। इसके अलावा, स्थानीय जमींदारों द्वारा बाड़ को खुला छोड़ दिया गया था, ताकि और अधिक ब्रा लटकाने सुरु हो जायें। 

दो महीने के बाद वहाँ कुछ 60 ब्रा थे। स्थानीय प्रेस को इसके बारे में सूचना मिली और यह कहानी न्यूजीलैंड मीडिया के माध्यम से व्यापक प्रसार हुई, और अधिक ब्रा दिखने के लिए अक्टूबर 2000 में लगभग 200 ब्रा लगा दी गई और बाड़ ब्रा को मंजूरी दे दी थी और इस समय दूर खेत के रूप में यूरोप बाड़ एक विचित्र पर्यटक आकर्षण के कारण एक दिलचस्पी का स्थान बन गया है।


असफल कानूनी चुनौतियों, और कई ब्रा (बाड़ पर लोगों) के जलने के बाद, यह पाया गया कि बाड़ सार्वजनिक भूमि पर बैठ गया।
क्वीन्सटाउन झील जिला परिषद में बीच में कदम रखा और, बाड़ से ब्रा को हटाने के आदेश दिए गए क्योंकि यह यातायात के लिए खतरा थे। 9 सितम्बर 2006 को, 1500 से अधिक ब्रा बाड़ से हटा दिया गया।
बाड़ का उपयोग सबसे लंबे समय तक ब्रा श्रृंखला का रिकॉर्ड प्राप्त करने के प्रयास में कुछ साल पहले ही समाप्त हो गया , लेकिन रोलिंग पहाड़ियों और पृष्ठभूमि के खिलाफ हर रंग की ब्रा का मुक़ाबला यह एक अद्वितीय न्यूजीलैंड आकर्षण हैं।
Share:

यहाँ पानी के नीचे से होती है गाड़ी ड्राइव- नीदरलैंड में बना है यह जलसेतु

पानी के नीचे से ड्राइव | नीदरलैंड में बना है यह जलसेतु जिसमें पानी के अन्दर से गाड़ी निकाल सकते है
पूर्वी नीदरलैंड में Veluwemeer Harderwijk के पास N302 सड़क पर जलसेतु तैयार किया गया है। यह Veluwemeer झील के एक छोटे से हिस्से के नीचे स्थित है और एक ही समय में फ्लेवोलैंड को मुख्य भूमि नीदरलैंड, जो दुनिया में सबसे बड़ा कृत्रिम द्वीप है से जोड़ता है। 
पानी के नीचे से करें गाड़ी ड्राइव- नीदरलैंड में बना है यह जलसेतु

यह जलसेतु 2002 में यातायात के लिए खोला गया था, और लगभग 25 मीटर लंबा और 19 मीटर चौड़ा और 3 मीटर की दूरी पर है ताकि छोटी नौकाओं मध्यम गति से आसानी से पार हो सके। 


यह भी अनुमान हैं कि लगभग 28,000 वाहन हर दिन इसके नीचे से गुजरते है। इसके दोनों तरफ फुटपाथों का भी निर्माण किया गया है ताकि सार्वजनिक रूप से आम जनता इसके दोनों तरफ के सोंदर्य का आनंद उठा सकें।


जलसेतु Veluwemeer - पानी के पुल का एक प्रकार है, जिसके तहत सुरंग दुनिया की सबसे बड़ी कृत्रिम द्वीप के साथ मुख्य भूमि को जोड़ने का काम करता है।
Share:

पहाड़ की दीवार पर खुदी हुई है यूरोप के अंतिम राजा की सर्वोच्च रॉक-मूर्तिकला

यह Decebalus का चेहरा जो कि Dacia के अंतिम राजा (87-106 ईसवी)  की मूर्ति है । Dacia रोमानिया के पूर्व रोमन नाम है। यह एक पहाड़ की दीवार पर खुदी हुई है, और यह नदी डेन्यूब Orsova, रोमानिया के पास पर है । यह रॉक मूर्तिकला (42.9 मीटर) ऊँची है ।
पहाड़ की दीवार पर खुदी हुई है यूरोप के अंतिम राजा की सर्वोच्च रॉक-मूर्तिकला
यह मूर्तिकला 1994 और 2004 के बीच बनाया गया था। यह रोमानिया में Orsova के शहर के पास स्थित है। एक दशक के लिए, 12 मूर्तिकारों ने पत्थर की दीवार जो 40 मीटर से अधिक ऊंची है फार्म के लिए में काम किया।
Photo by Flickr/Byron Howes
SourceWikipedia
Share:

देव आनन्द के बारे में रोचक जानकारी जो शायद आप नहीं जानते (21 Interesting Facts about DevAnand in Hindi)

 देव आनन्द के बारे में रोचक जानकारी जो शायद आप नहीं जानते (21 Interesting Facts about DevAnand in Hindi)
21 Interesting Facts about DevAnand in Hindi
 1.Dev Anand देव आनन्द का जन्म 26 सितम्बर 1923 को पंजाब के गुरदासपुर जिले के एक मध्मयवर्गीय परिवार में हुआ था अब यह शहर अब पाकिस्तान में हैं!

2. बचपन उनका नाम धर्मदेव (देवदत्त) पिशौरीमल आनन्द था |

3. देव आनन्द ने अंग्रेजी साहित्य में स्नातक की शिक्षा 1942 में लाहौर के मशहूर सरकारी कॉलेज से पुरी की |

4. Dev Anand को पहली नौकरी Military Censor office में एक लिपिक के तौर पर मिली , जहा उन्हें सैनिको द्वारा लिखी चिट्ठियों को उनके परिवार के लोगो को पढकर सुनाना पड़ता था |

5. लगभग एक वर्ष तक Military Censor में नौकरी की |

6.Dev Anand के भाई चेतन आनन्द भारतीय जन नाट्य संघ इप्टा से जुड़ गये |

7. परिवार की कमजोर आर्थिक स्तिथि को देखते हुए वह 30 रूपये जेब में लेकर पिता के मुम्बई जाकर काम न करने की सलाह के विपरीत वह अपने भाई चेतन आनन्द के साथ 1943 में मुम्बई पहुच गये |

8. चेतन आनन्द के साथ देव भी भारतीय जन नाट्य संघ इप्टा से जुड़ गये |

9. Dev Anand और उनके छोटे भाई विजय को फिल्मो में लाने का श्रेय उनके बड़े भाई चेतन आनन्द को जाता है|

10. देव आनन्द मुम्बई गायक बनने का सपना लेकर आये थे .और देव आनन्द अभिनेता बन गये |

11. अभिनेता के रूप में पहला ब्रेक 1946 में फिल्म “हम एक है ” से मिला जो फ्लॉप रही |

12. वर्ष 1948 में जिद्दी उनकी पहली हिट साबित हुयी |

13. सन 1949 में उन्होंने “नवकेतन बैनर ” स्थापित किया और वर्ष 1950 में “अफसर ” का निर्माण किया जिसका निर्देशन उनके बड़े भाई चेतन आनन्द ने किया |

14. सन 1951 में उनके बैनर की अगली फिल्म “बाजी ” का निर्देशन उनके दोस्त गुरुदत्त ने किया जिसने उनकी किस्मत बदल दी |

15. वर्ष 1971 में फिल्म “हरे रामा हरे कृष्णा ” की कामयाबी के बाद देव एक बेहतरीन निर्देशक के रूप में स्थापित हो गये

16.Dev Anand देव आनन्द ने कई नई अभिनेत्रियों को पर्दे पर उतारा | जैसे = जीनत अमान की खोज की | टीना मुनीम ,नताशा सिन्हा एवं एकता जैसी अभिनेत्रियो के पीछे भी वही थे |

17. सुरैया एवं जीनत अमान आदि के साथ रोमांस के बाद उन्होंने कल्पना कार्तिक से शादी की लेकिन कुछ समय बाद ही दोनों अलग हो गये |

18. पद्म भूषण एवं दादा साहेब फाल्के पुरुस्कार सहित अनेक अवार्ड्स से सममानित हैं देव जी.

19. देवानंद फैशन को फॉलो नहीं करते थे, फैशन देवानंद साहब को फॉलो करता था.

20. उनका काली कमीज के पहना अौर बालों पर हाथ फेरने का अंदाज आज भी कायम हैं |

21. ‘ काला पानी’ हिच होने के बाद, देव साहब को काले कमीज के लिए कोर्ट का बैन लग गया था |

21. आज जितने प्रशंसक सलमान खान के नहीं हैं उससे कहीं ज्यादा कभी देवानंद के माने जाते थे.
इस अजीम अदाकार का लन्दन में दिल का दौरा पड़ने से 3 दिसम्बर 2011 को 88 वर्ष की उम्र में निधन हो गया लेकिन उनका नाम बॉलीवुड के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में सदैव लिखा रहेगा |
Share:

Tatton पार्क की झील पर गुब्बारों से बना “झूलता पुल” क्या आप जानते है इसके बारे में?

Pont de Singe, Tatton पार्क में बनाया गया है गुबारों से बना हैंगिंग पुल. फ्रेंच डिजाइनर ओलिवियर Grossetet ने Tatton पार्क की एक ऐतिहासिक झील को पार करने और घूमने के लिए तीन विशाल हीलियम गुब्बारे का इस्तेमाल करके "बंदर ब्रिज" बनाया है ।
Tatton पार्क में झीलपर बनाया गया है गुबारों से बना हैंगिंग पुल

इस जापानी उद्यान पार्क का सबसे आकर्षण होने के नाते इसे सबसे लंबे रस्सी के पुल के नाम से जाना जाता है , पुल को देवदार की लकड़ी बनाया गया है, जिसे तीन हीलियम से भरे गुब्बारे हवा में उठाते है। पुल के सिरों को पानी में सीधे उतरा गया है, ताकि पर्यटकों स्वतंत्र रूप से झील को पार सकते है।

तथ्य यह भी है कि एक ग्रुप ने अपने दौरे के दौरान सख्ती से इस पुल को पार करने के लिए मना किया था लेकिन बावजूद इसके , ओलिवर Grossetet ने तर्क दिया था कि यह विशाल गुब्बारे अच्छी तरह से एक औसत व्यक्ति का वजन पकड़ सकता है।
यह ध्यान देने योग्य है कि इस तरह के एक परियोजना लिए पहली बार फ्रेंच उत्साही नहीं था : 2007 में वह पहले से ही एक समान विचार किया था। 
Tatton के जापानी गार्डन की वास्तुकला अपने आप में एक मिसाल है और यह एक बादाम की आँख जैसा पुल daydreams की शक्ति और उनकी वास्तविकता को बदलने की क्षमता चलता है। पुल जो तीन हीलियम भरे गुब्बारे से ऊपर बंधा हुआ है इसे बंद करने का कोई रास्ता नहीं है। 
Share:

29 September, 2016

जानिये क्यों कहा जाता है Prohodna गुफा, बुल्गारिया को "भगवान की आंखें "

जानिये क्यों कहा जाता है Prohodna गुफा, बुल्गारिया को "भगवान की आंखें " मानव जाति ने बहुत पहले ही खूबसूरत चीजें बनाने के लिए सीखा लिया था - हम, एक सच्चे वास्तु कृतियों का निर्माण कला , रोमांचक चीजों को खोजना और अभूतपूर्व ऊंचाइयों पर पहुंच रहे हैं। हालांकि, हम जटिल प्रकृति के साथ मैच नहीं कर सकते है, क्योंकि यह सभी कृतियाँ हमें अभी भी इसकी जटिलता, सौंदर्य और गहरे अर्थ के साथ मोहित करती है । 
Prohodna गुफा, बुल्गारिया को "भगवान की आंखें "
यह गुफा सोफिया, बुल्गारिया की राजधानी के शहर से 112 किलोमीटर दूर है, और कई वर्षों के लिए रहस्यमय आभा के साथ लोगों को प्रभाबित कर रही है - हम, एक अविश्वसनीय गुफा के बारे में बात कर रहे हैं 'जिसे करार दिया भगवान की आँखों का "।

बुल्गारिया में सबसे प्रसिद्ध गुफाओं में से एक, चेकप्वाइंट "Prohodna गुफा" का नाम है और गांव Karlukovo के आसपास के क्षेत्र में स्थित है। पर्यटकों के लिये इसका सबसे मुख्य विशेषता का कारण है - इस गुफा की छत में एक विशाल प्राकृतिक छेद, विशाल खाली आँखों जैसी है।
"खिड़की" के माध्यम यह हमेशा गुफाओं के दर्शकों पर एक अमिट छाप छोड़ती है, और स्थानीय लोगों के लिये यह है "प्रभु की आँखें।" एक खास कोण से देखने पर लगता है कि कोई आपको देख रहा है। बरसात के मौसम में इसे , "भगवान के नेत्र" और मानव आकार को जोड़ा गया जैसे लगता है कि आँखों से आंसू बह रहे है ।
 
Prohodna गुफा की लंबाई में 262 मीटर है। .. बड़े और छोटे, और मेहराब की ऊंचाई क्रमश: 45 मीटर और 35 मीटर है इस बुल्गारिया में सबसे ज्यादा गुफा है, 
यह गुफा लगातार पर्यटकों के लिए खुला है, और आप अपने आप से यह यात्रा कर सकते हैं, लेकिन यह सिफारिश की गई है, एक गाइड लेने के लिए। सर्दी में जब अंदर फिसलन हो जाती है तब विशेष रूप से सावधान रहना चाहिए, लेकिन तहखानों से विशाल icicles लटका के रखा गया है । पीटर Tranteeva, ने "भगवान की आँखों" को बुल्गारिया में सौ राष्ट्रीय पर्यटक स्थलों की सूची में शामिल किया है।
Share:

कुछ रोचक जानकारियाँ (13 More Interesting Facts in Hindi)

1.गधे की आंखों की स्थिति कुछ ऐसी होती है कि वह अपने चारों पैरों को एक साथ देख सकता है

2.ऊंट की आंख में तीन पलकें होतीं हैं जो उन्हें रेगिस्तान में उड़ने वाली रेत से बचाती हैं

3. मनुष्य के शरीर में हर सेकेण्ड 15 मिलियन लाल रक्त कणिकाएं पैदा होतीं हैं और मरती हैं।

4. विश्व में कुल 2792 भाषाएँ बोली जाती है.

5. विश्व में स्पेन ऐसा देश है जहां कपड़ो पर अख़बार छपता है.

6. जिराफ की जीभ इतनी लंबी होती है कि वह अपने कान साफ़ कर सकता है ।

7. विश्व का पहला रिवोल्वर कोल्ट (अमेरिका) ने 1835 में बनाया था.

13 More Interesting Fats in Hindi


8. एक्वेस्टक ऐसा पदार्थ है जो आग में नहीं जलता.

9. विश्व में बिजली का अविष्कार 1672 में वान गुएरिके ने किया था.

10. विश्व का रूस ऐसा देश है जिसक एक भाग में शाम और एक भाग में दिन होता है.

11. चीन विश्व का ऐसा देश है जिसकी सीमा को तेरह देशो ने घेर रखा है

12.भारत में रंगीन टीवी का प्रसारण शुरू हुआ था 1982 में

13. सानमारिनो विश्व का ऐसा देश है जहां दो राष्ट्रपति होते है.
Share:

दुनिया के सात अजूबों में शामिल है दुनिया का सबसे ऊँचा प्रयटक स्थल माचु पिच्चु

दुनिया में कई ऐसे टूरिज्म प्लेसेस हैं, जो अपनी बनावट के कारण लोगों को आकर्षित करते हैं। ऐसा ही एक टूरिस्ट प्लेस माचु पिच्चु है। साउथ अमेरिका के पेरु में स्थित माचु पिच्चु दुनिया के सबसे ऊंचे पर्यटक स्थलों में से एक है। एंडीज पर्वत पर बना माचु पिच्चु नामक मशहूर और प्राचीनतम खंडहर, पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र रहा है। यह दुनिया के 7 आश्चर्यजनक पर्यटक स्थलों में से एक है, जिनमें चीन की दीवार, ताजमहल, गिजा के पिरामिड, जॉर्डन का पेट्रा, रोमन कोलेसियम और ब्राजील का क्रिस्ट रेडिमर शामिल हैं।


(दुनिया के सेवन वंडर्स में शामिल पेरु के माचु पिच्चु की एक तस्वीर)
                            (दुनिया के सेवन वंडर्स में शामिल पेरु के माचु पिच्चु की एक तस्वीर)

बताया जाता है कि 24 जुलाई 1911 को इसकी खोज अमेरिकी आर्कियोलॉजिस्ट (पुरातत्वविद्) हिराम बिंघम ने किया था। हालांकि, इसको लेकर भी मतभेद हैं। कुछ लोगों का कहना है कि इस पर्यटक स्थल को जर्मनी के एक इंजीनियर ऑगस्टो बर्न ने 1911 से 40 साल पहले यानी 1869 में खोज लिया था।

माचु पिच्चु से जुड़े फैक्ट्स

* माचु पिच्चु के संदर्भ में कई तरह के मिथ प्रचलित हैं। ऐसा कहा जाता है कि यहां पर कई बार एलियंस की उड़नतश्तरी भी दिखाई दे चुकी है।

* अमेरिकी आर्कियोलॉजिस्ट हिराम बिंघम ने माचु पिच्चु की खोज करते हुए कहा था कि यह खोया हुआ प्राचीन शहर था, जो खंडहर में तब्दील हो गया। यहां की इमारते चूने से बनाई गई थी।

* येल विश्वविद्यालय के शोधार्थियों के साथ हिराम बिंघम जब दोबारा इस प्राचीन स्थल पर गए, इस दौरान वहां खुदाई में इन्हें कई ममी, हड्डियों और मिट्टी-धातु के कीमती सामानों के साथ प्राचीन कलाकृतियां मिली थीं, जो 15वीं शताब्दी के आस-पास की थीं।

* माचु पिच्चु समुद्र तल से 2,430 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

* यह 80,000 एकड़ क्षेत्र यानी 32,500 हेक्टेयर में फैला हुआ है। इस पर सीढ़ीदार खेत भी बनाए गए हैं, जहां पर लोग मक्के और आलू की खेती करते हैं।

* प्रत्येक साल यहां मैराथन का आयोजन किया जाता है। लगभग 42 किलोमीटर लंबे इस ट्रैक पर मैराथन जीतने का रिकॉर्ड 3 घंटा 26 मिनट का है।
Share:

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (GK Knowledge about NSE in Hindi) के बारे में बिस्तृत जानकारी

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज, भारत का सबसे बड़ा और तकनीकी रूप से अग्रणी स्टॉक एक्सचेंज है. यह मुंबई में स्थित है.
इसकी स्थापना 1992 मे हुई थी. कारोबार के लिहाज से यह विश्व का तीसरा सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है.
इसके वीसैट (VSAT) टर्मिनल भारत के 320 शहरों तक फैले हुए हैं. नेशनल स्टाक एक्सचेंज का देशव्यापी नेटवर्क फैला हुआ है. इसे, एक आधुनिक व पूरी तरह से स्वचालित, स्क्रीन आधारित व्यापार प्रणाली प्रदान करने के लिए शीर्ष संस्थाओं द्वारा स्थापित किया गया था.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज, सुप्रीम पारदर्शिता, दक्षता, गति, सुरक्षा और बाजार अखंडता के बारे में मजबूती लाने के लिए लाया गया है.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज नें ट्रेडिंग वॉल्यूम और बाजार प्रथाओं के मामले में भारतीय प्रतिभूति बाजार के पुनर्गठन में एक उत्प्रेरक की भूमिका निभाई है. आज यह बाजार विविध उत्पादों के सन्दर्भ में एक सक्षम और पारदर्शी व्यापार प्रक्रिया और निपटान तंत्र के सन्दर्भ में राज्य के अत्याधुनिक सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग करता है, और उत्पादों और सेवाओं अर्थात में कई नवाचारों से सम्बंधित कार्यों को सम्पादित करता है.

शेयर बाजार शासन, निपटान चक्र के संपीड़न, स्क्रीन आधारित ट्रेडिंग, प्रतिभूतियों के सन्दर्भ में अनेक कार्य और इलेक्ट्रॉनिक हस्तांतरण, प्रतिभूतियों के उधार लेने, प्रतिभूतियों के उधार, जोखिम प्रबंधन प्रणाली, समाशोधन के कार्य करता है.

उद्देश्य
यह संस्था लोगों की वित्तीय भलाई को बढ़ाने के लिए समर्पित है और उनके लाभ के सन्दर्भ में अपने कार्यों को सम्पादित करता है.

दृष्टि
एक नेता किभुमिका अदा करना और की संस्थान वैश्विक उपस्थिति को मजबूत बनाये रखना. साथ ही लोगों को वित्तीय उपलब्धि के सन्दर्भ में मदद करना.

मूल्य
नेशनल स्टॉक एक्सचेंज निम्नलिखित बुनियादी मूल्यों के लिए समर्पित है:
1- वफ़ादारी
2- ग्राहक केंद्रित संस्कृति
3- व्यक्ति के प्रति सम्मान, देखभाल और विश्वास
4- टीमवर्क
5- उत्कृष्टता के लिए जुनून
Share:

बालों के बारे में मजेदार तथ्य (16 Strange Facts about Hairs in Hindi)

बालों के बारे में मजेदार तथ्य (16 Strange Facts about Hairs in Hindi). बालों को सजाना और संवारना किसे अच्छा नहीं लगता। चाहे लड़का हो या लड़की, बाल इंसान की खूबसूरती में चार चाँद लगा देते हैं। यूँ तो आप रोजाना घंटो शीशे के सामने अपने बालों को निहारते होगे लेकिन बालों के बारे में हम आपको कुछ ऐसी बातें बताएँगे जिन्हें आप नहीं जानते

1. हमारे बाल केराटिन(keratin) नाम के प्रोटीन से बने होते हैं, जानवरों के सींग, खुर, पंजे, पंख और चौंच भी इसी प्रोटीन से बनते हैं

2. गीले बालों को सामान्यतः 30% लम्बाई तक ज्यादा खींचा जा सकता है

3. बाल गर्मियों में ज्यादा तेजी से बढ़ते हैं"

4. हमारे बाल मृत होते हैं

5. आपके बाल से आपका बल्ड ग्रुप, और शरीर के बारे में अन्य जानकारियां आसानी से पता लगायी जा सकती हैं। कई बार पुलिस बाल से ही मुजरिम का पता लगा लेती है

6. बाल से केवल एक बात पता नहीं लगाया जा सकता कि ये बाल स्त्री का है या पुरुष का। क्यूंकि स्त्री और पुरुष दोनों के बालों की संरचना एक जैसी ही होती है

7. दुनिया भर में सबसे ज्यादा काले रंग के बाल होते हैं, इसके आलावा लाल रंग के बालों वाले लोग केवल 1% हैं

8. जैसे ही कोई बार सर से टूटता है वैसे ही तुरंत एक नया बाल उगना शुरू हो जाता है

9. बालों में 50% कार्बन, 21% ऑक्सीजन, 17% नाइट्रोजन, 6% हाइड्रोजन और 5% सल्फर होता है

10. हथेली, तलवे और होठों को छोड़कर बाल पूरे शरीर पर कहीं भी उग सकते हैं

11. एक सामान्य बाल का जीवन करीब 5 साल होता है

12. बाल हमारे दिमाग को गर्मी और अन्य दुष्प्रभावों से बचाते हैं

13. एक आदमी के बालों का वजन करीब 100 ग्राम या उससे ज्यादा हो सकता है

14. जब हम बाल धोते हैं तो कई बार कुछ टूटे बाल दिखाई देते हैं, औरतों के एक दिन में करीब 40 से 150 बाल टूट जाते हैं

15. सामान्यतः हमारे बाल रोजाना करीब 0.3 – 0.5 mm बढ़ते हैं, और 1.25 सेंटीमीटर या 0.5 इंच प्रति माह और करीब 15 सेंटीमीटर या 6 इंच प्रति वर्ष

16. इंसान का बाल एक कॉपर के पतले तार से ज्यादा मजबूत होता है
Share:

28 September, 2016

Indian National Symbol Facts-राष्ट्रीय चिह्नों और उनसे जुड़े कुछ तथ्य

हमारे देश भारत के राष्ट्रीय​ चिन्ह के बारे में सभी लोगो को ज्यादा कुछ खास जानकारी नहीं है!  चलिए जानते हैं अपने राष्ट्रीय चिह्नों और उनसे जुड़े कुछ तथ्यों को..
हमारे देश भारत के राष्ट्रीय​ चिन्ह के बारे में सभी लोगो को ज्यादा कुछ खास जानकारी नहीं है!  चलिए जानते हैं अपने राष्ट्रीय चिह्नों और उनसे जुड़े कुछ तथ्यों को..

1) राष्ट्रीय ध्वज: तिरंगा

पुराने कानून के अनुसार गैर-सरकारी लोग सिर्फ गणतंत्र और स्वतंत्रता दिवस को ही तिरंगे को फहरा सकते थे। लेकिन सन 2002 के नये क़ानून के बाद अब कोई भी भारतीय किसी भी दिन तिरंगे को फहरा सकता है।

2) राजकीय प्रतीक: अशोक स्तम्भ-शीर्ष

इस राजचिह्न के नीचे लिखे ‘सत्यमेव जयते’ को मुंडकोपनिषद से लिया गया है, जिसका अर्थ है- “केवल सत्य की ही विजय होती है”।


3) राष्ट्रीय कैलेंडर: शक पञ्चांग

इस पञ्चांग में विशेष अंतरिक्ष ज्ञान, सटीक समय गणना और कई महत्वपूर्ण सूत्रों के होने की वजह से इसे 1957 में राष्ट्रीय कैलेंडर के रूप में अपनाया गया।


4) राष्ट्रीय गान: जन-गण-मन

इसे पहले भारत-भाग्य-विधाता के नाम से जाना जाता था।
इसमें भारत के प्राचीन 7 भागों (प्रान्तों) का वर्णन है: पंजाब-सिंध-गुजरात-मराठा-द्रविड़-उत्कल-बंग।

5) राष्ट्रीय गीत: वन्दे मातरम

बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय द्वारा लिखित इस रचना को 1950 में राष्ट्रीय गीत के रूप में अपनाया गया।

6) राष्ट्रीय प्रतिज्ञा: देशभक्ति की शपथ

इसे प्यादिमर्री वेंकट सुब्बा राव ने 1962 ई. में तेलुगु में लिखा था। इसमें देश और देशवासियों से हमेशा वफ़ादार रहने की शपथ है।

7) राष्ट्रीय फूल: कमल (नेलुम्बो न्यूसीफेरा)

यह फूल हर सुबह खिलता है और रात में मुरझा जाता है।
इसके पौधे सैंकड़ों सालों तक ज़िन्दा रहते हैं और कभी-कभी मर जाने के बाद भी ज़िन्दा हो जाते हैं।

8) राष्ट्रीय फल: आम

इसे फलों का राजा भी कहा जाता है। भारत में 250 से भी ज्यादा प्रकार के आम पाए जाते हैं।

9) राष्ट्रीय नदी: गंगा

यह भारत की सबसे लंबी नदी है जो 4 राज्यों से होकर गुजरती है।

10) राष्ट्रीय वृक्ष: दि ग्रेट बनयान ट्री

कोलकाता का यह बरगद पेड़ 250 साल पुराना है और अकेले ही 4.67 एकड़ क्षेत्रफल में फैला हुआ है।

11) राष्ट्रीय पशु: रॉयल बंगाल टाइगर

पेड़ों पर चढ़ने और पानी में तैरने वाले ये बाघ अपने से भारी शिकार को भी 1.6 किलोमीटर तक खींच कर ले जा सकते हैै

12) राष्ट्रीय जलीय प्राणी: रिवर डॉल्फिन

गंगा नदी में पाए जाने वाले ये डॉल्फिन सिर्फ ताजे और स्वच्छ पानी में ही रह सकते हैं।

13) राष्ट्रीय पक्षी: मोर

इनके पंख बहुत खूबसूरत होते हैं, जिन्हें ये साढ़े 4 फ़ीट से 5 फ़ीट तक फैला सकते हैं।

14) राष्ट्रीय खेल: हॉकी (असत्य)

भारत का कोई राष्ट्रीय खेल नहीं है। 1928-56 के दौरान भारतीय हॉकी के शानदार प्रदर्शन के कारण कई लोगों ने इसे राष्ट्रीय खेल मान लिया।

15) राष्ट्रीय भाषा: हिन्दी (असत्य)

भारत की कोई राष्ट्रीय भाषा नहीं है। हिन्दी मातृभाषा है, 41% से भी अधिक भारतीय हिन्दी का इस्तेमाल करते हैं।
भारत की 23 आधिकारिक भाषाएँ हैं, जिनमें से केन्द्र सरकार हिन्दी और अंग्रेज़ी का प्रयोग करती है।

16 राष्ट्रीय मुद्रा: रूपया

भारतीय नोट कागज के नहीं बल्कि सूत या सूती कपड़े से बने होते हैं। इन्हें नासिक, देवास, मैसूर और सल्बोनी में बनाया जाता है।


NOTE: यदि आपको National Symbol से जुड़े तथ्यों के बारे में और कुछ पता हो या गलत लगे तो कमेंट अवश्य करें। हम इसे अपडेट करते रहेंगे।
Share:

क्या आप जानते है इन 43 तरीकों से किया जा सकता है सर दर्द दूर

सिरदर्द एक आम समस्या बनता जा रहा है। ऐसे में लोग अक्सर पेन किलर का सहारा लेते हैं। लेकिन ज्यादा पेन किलर खाने पर रिएक्शन का डर बना रहता है। इसीलिए सिरदर्द दूर करने के लिए आप कुछ प्रभावी घरेलू नुस्खे |
क्या आप जानते है इन तरीकों से किया जा सकता है सर दर्द दूर

सर दर्द के कारण / Causes of Head Pain in Hindi

1. मस्तिष्क की शिराओं में रक्त संचय से “सिर-दर्द होता है।

2. रक्तभार (Blood Pressure) की वृद्धि होने से लगातार सिर-दर्द रहने का लक्षण रहता है। रक्तभार कम होने से मस्तिष्क को रक्त-आक्सीजन कम मिलने से सिर-दर्द होता है।

3 . बुखार में सिर-दर्द मस्तिष की धमनियों में फैल जाने से होता है।

4. चिंन्ता से चेहरे और कपाल की माँस-पेशियों में तनाव (Tension) बढ़ जाने से सिर-दर्द रहता है। जो पिछले भाग (Occipital) में होता है।

5. नींद कम आनें, और ना आने से सिर दर्द होता है।

6. रक्त में बिष, जैसे मूत्र रोग, अपच से उत्पन्न प्रभाव से सिर-दर्द हो जाता है।

7. जुखामं होने पर भी सिर दर्द हो जाता है।

8. नेत्रों की कमजोरी, नेत्र रोग, कान, नाक, गले, दाँतों के रोगों से सिर-दर्द होता है।

9. कांई सिरा प्रसारक औषधि खाने से, शरीर में कोई बाहा प्रतिकूल प्रोटीन आने से सिर-दर्द होता है।

10. लगातार रहने वाले सिर-दर्द के कारण अम्लपित्त (Acidity) और नेत्रों के रोग हैं।

11. शरीर मे पानी कि मात्रा के कम होने के कारण भी सर दर्द होने लता है |

12. मौसम में अचानक बदलाव हो या फिर तेज धुप मे बाहर निकलने पर सर दर्द होने लगते है |


सर दर्द के घरेलू नुस्खे / Home  remedies of headache

1. रात में कम-से-कम 6-8 घंटे की नींद जरूर लें और सोने – जागने का शेड्यूल एक जैसा रखने की ही कोशिश करें।

2. सिर दर्द में आप लौंग पाउडर और नमक का पेस्ट बना कर इसे दूध में मिलाकर पीएं, तुरंत आराम मिलेगा।

3. पिपरमिंट सिरदर्द के लिए बेहद फायदेमंद है।इसलिए अगर आपको सिर दर्द की शिकायत है, तो आप इसे चाय में मिलाकर पी सकते हैं। इससे आपको तुरंत आराम मिलेगा।

4. सिर के जिस हिस्से में दर्द हो, उसके दूसरे हिस्से की तरफ नाक के छिद्र में एक बूंद शहद डालने से सर का दर्द तुरन्त दूर हो जाता है।

5. कई बार पेट में गैस बनने से भी सिर दर्द होता है। इसके लिए एक ग्लास में गर्म पानी और नींबू का रस मिला कर पीएं। इससे आपको सिर दर्द से जल्दी राहत मिलती है ।

6. लौंग को हल्की गर्म करके उसे पीसकर सिर पर लेप करने से सर दर्द मिट जाता है ।

7. काम के बोझ से बचने के लिए लोग काफी ज्यादा चाय , कॉफी आदि पीते रहते हैं, जिनमें कैफीन होता है। ज्यादा कैफीन लेने से सिरदर्द की सम्भावना बढ़ती है।

8. बादाम के तेल में केसर मिलाकर दिन में तीन चार बार सूंघने से सर दर्द में आराम मिलता है।

9. सिर दर्द से आराम पाने के लिए गाय का गर्म दूध पीएं। साथ ही अपने आहार में देशी घी को भी शामिल करें।

10. सिरदर्द के लिए नौशादर और खाने वाला चूना बराबर मात्रा में मिलाकर एक शीशी में भरकर उसे अच्छी तरह मिला लें। सिरदर्द होने पर इसे सूंघे ।

11. अगर आपका सिर दर्द जुखाम की वजह से है तो आप धनिया, चीनी को पानी में घोल कर पी कर सिर दर्द से निजात पा सकते हैं।

12. सिर दर्द से छुटाकारा पाने के लिए दालचीनी को पीस कर उसका पाउडर बना लें। अब इसे पानी में मिला कर पेस्ट तैयार करें।इसे सिर पर लगाने से आपको तुरंत आराम मिलेगा।

13. सरसों के तेल को कटोरी में डालकर 1 से 2 मिनट तक दिन में तीन चार बार सूंघें।

14. एक मुनक्के के बीज निकालकर उसमें एक साबुत राई रख दें। 2-3 दिन लगातार सूर्योदय से पहले कुल्ला करके पानी से मुनक्का निगल लें,सर दर्द में तुरंत लाभ मिलेगा ।

15. अगर आप स्थाई सिर दर्द की समस्या से जूझ रहे हैं तो कुर्सी पर बैठ कर अपने पांव गर्म पानी में डुबो कर रखें। सोने से पहले कम से कम 15 मिनट तक ऐसा करें।इसे नियमपूर्वक सप्ताह में कम से कम दो से तीन बार तक करें।

16. अगर आप गर्मी के समय में सिर दर्द से जूझ रहे हैं तो नारियल के तेल से 10-15 मिनट मसाज करने से भी आपको सिर दर्द से राहत मिलेगा।

17. किसी कपडे के बैग में थोड़े से बर्फ के टुकड़े को भर ले | अब उसे अपने सर में रख दे थोड़ी देर तक रखने के बाद हटा दे | इसी तरह करते रहे 10 से 15 minute तक |

18. चाय में थोडी सी अदरख के साथ लौंग और इलायची भी मिला दें।  सिरदर्द तुरंत गायब हो जायेगा ।

19. लहसुन के कुछ टुकड़े लेंकर उसे निचोड़ का रस निकालकर उसे पी जाएँ  सिर दर्द में तुरंत राहत मिलती है।

20. लौकी का गूदा सिर पर लेप करने से भी सिरदर्द में आराम मिलता है।

21. बादाम के तेल से सिर का मसाज करने पर भी सिर दर्द से राहत मिलती है।

22. मांसपेशियों के तनाव को कम करने के लिए कंधे, गर्दन और कनपटी के हिस्से में मसाज करना अच्छा रहता है।

23. सर दर्द होने पर ताजा हरा पान चबा चबा कर खाइये, जल्दी ही सर का दर्द गायब हो जायेगा ।

24. खीरा काटकर सूँघने एवं सिर पर रगडऩे से सिरदर्द में तुरंत आराम मिलता है।

25. सेब के फल को काट ले फिर उसे नमक के साथ खाए | इससे भी दर्द से राहत मिलेगा |

26. 2 से 3 प्याज ले उसे पीस कर paste तैयार कर ले , उस paste को अपने पैरो के तलवे मे लागाये | लगाकर 20 minute के लिए छोड़ दे |

27. तरबूज़ के टुकड़ो को मोटे कपड़े में रखकर इसका रस निचोड़ कर, इसमे थोड़ी शक्कर मिला लें। सुबह खाली पेट लगभग एक कप रस लगातार कुछ दिन पीने से पुराना सिरदर्द बंद हो जाता है।

28. धनिया और आँवला का बारीक चूरन बना लें, रात को 2 चम्मच चूरन 1 ग्लास पानी में डाल कर रख दें सुबह इसे छान कर खाली पेट पी लें इससे सिर दर्द में आराम मिलेगा।

29.  सिर दर्द को दूर करने के दादी माँ के घरेलू नुस्खे में से एक है उत्तर दिशा में सिर कर के सोना। सिर दर्द ठीक करने के लिए यह एक पुरानी मान्यता है।

30. माथे पर देसी घी कुछ देर तक मलने से सिर दर्द रुक जाता है।
नाक के छेदों में गाएँ का घी या शहद डालना चाहिए।

31. अगर गर्मी से सिर दर्द हो तो पालक और गाजर का रस पियें। यह घरेलू नुस्ख़ा अपनाने से आपका सिर दर्द तुरंत गायब हो जाएगा।

32. तुलसी की पत्तियों का रस अदरक के रस में मिला कर माथे पर लगायें और रोगी को पिलायें।
लौंग पीस कर पानी में घोल कर माथे पर लगायें। ऐसा करने से आपका सिर के दर्द में राहत मिलेगी।

33.  एक मुठ्ठी बादाम का सेवन करने से भी सिर का दर्द दूर हो जाता है।
नींबू को चाय में निचोड़ कर पीने से सिर दर्द ठीक हो जाता है। नींबू की चाय में दूध ना डालें।

34. 3-4 तुलसी की पत्तियाँ चबाने से भी सिर दर्द कम हो जाता है।

35. पीपल के पत्तों को पानी में चटनी की तरह पीसकर माथे पर लेप करना भी सिर दर्द में राहत पाने के लिए दादी माँ के घरेलू नुस्खे में से एक है।

36. बादाम के तेल से मालिश करने से सिर दर्द कम हो जाता है।

37. ताज़े भुने चनो को गुड के साथ खाएं। ऐसा करने से सिर दर्द में राहत मिलेगी।

38. सिर में दर्द होने पर नारियल की गिरी को पानी में घिसकर माथे पर लगायें।

39. पानी में काली मिर्च और सौंठ पीसकर माथे पर लेप करना भी दादी माँ का घरेलू उपचार है।

40. पानी में दालचीनी पीसकर सिर पर लेप करने से सिर दर्द में काफ़ी आराम मिलता है।

41. प्याज़ को पीसकर पैर के तलवे पर लगायें और नाक से लंबी लंबी साँस लें।

42. सफेद चंदन को गुलाबजल में घिस कर माथे पर लेप करें। यह दादी माँ का एक घरेलू उपचार है।

43. नींबू की पत्तियों को पीस कर सूंघने से भी सिर दर्द में आराम मिलता है।

Note :- आपके पास इसके बारे में और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट में लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे. धन्यवाद.
Share:

जानिये क्यों खुद के काले रंग से चिढ़ते थे नाना पाटेकर

नाना ने मुंबई के जे।जे स्कूल आफ आट्र्स से पढ़ाई की । इस दौरान वह कॉलेज द्वारा आयोजित नाटकों में हिस्सा लिया करते थे। नाना को स्केचेस बनाने का शौक था। उस दौरान वो ममुंबई पुलिस के लिए स्केचेस बनाने का काम किया करते थे।
जानिये क्यों खुद के काले रंग से चिढ़ते थेच नाना पाटेकर

खुद के काले रंग से चिढ़ते थे

बचपन में नाना को अपने काले रंग की वजह से काफ़ी चिढ़ा करते थे। नाना को लगता था की उनके पिता उनके अलावा उनके दुसरे दो भाइयों को चाहते हैं। बचपन में  काले रंग की  वजह से एक 4 साल की  लड़की ने नाना से शादी करने से इनकार किया था और उनके बड़े भाई को शादी के लिए चुना था।

पारिवारिक जीवन

नाना की शादी नीलाकांती पाटेकर से हुई लेकिन बाद में उनका तलाक हो गया। उनका एक लड़का भी है जिसका नाम मल्‍हार है। यह भी पढ़ें: अनिल कपूर हुए 59 साल के, जानिए एवरग्रीन अनिल कपूर के ज़िन्दगी की अनसुनी बातें

स्मिता पाटिल के ज़रिए हुई फिल्म इंडस्ट्री में एंट्री

नान पाटेकर को शुरू से ही अभिनय का शौक था। अपने पढाई के दौरान नाना नाटको में एक्टिंग किया करते थे इसी दौरान एक्ट्रेस स्मिता पाटील ने अभिनय करते हुए देखा था और उसके बाद नाना के बारे में निर्माताओं से बात भी की थी।

फिल्मों में शुरूआती संघर्ष

वैसे तो नाना की बॉलीवुड में एंट्री हुई थी 1978 मे प्रदर्शित फिल्म ‘गमन’ के ज़रिए। लेकिन इस फिल्म में दर्शकों ने उन्हें नोटिस नहीं किया। बॉलीवुड में अपने जगह बनाने के लिए नाना को करीब आठ साल का संघर्ष करना पड़ा। गमन के बाद उन्हें जो भी भूमिका मिली, वह स्वीकार करते चले गये । इस बीच उन्होंने गिद्ध ,भालू और शीला जैसी कई दोयम दर्जे की फिल्मों मे अभिनय किया लेकिन इनमें से कोई भी फिल्म बाक्स आफिस पर सफल नहीं हुयी।


‘परिंदा’ फिल्म से मिली पहचान

नाना पाटेकर को निर्देशक एन। चंद्रा की फिल्म में बड़ा ब्रेक मिला 1986 में फिल्म अंकुश के ज़रिए। समाज से नाराज़ एक बेरोजगार युवक का किरदार नाना पाटेकर ने कुछ इस तरह निभाया की वो यादगार बन गया। यह
1989 में प्रदर्शित फिल्म परिन्दा नाना के सिने कैरियर की हिट फिल्मों में शुमार की जाती है 1विधु विनोद चोपड़ा निर्मित इस फिल्म में उन्होंने मानसिक रूप से विक्षिप्त लेकिन अपराध की दुनिया के बेताज बादशाह की भूमिका निभाई। इस भूमिका ने नाना को फिल्म इंडस्ट्री में एक नई पहचान दिलाई।

इसके बाद नाना ने 1991 में ने फिल्म निर्देशन में भी कदम रख दिया और प्रहार का निर्देशन और अभिनय भी किया।इस फिल्म की सबसे दिलचस्प बात यह रही कि उन्होंने अभिनेत्री माधुरी दीक्षित को ग्लैमर विहीन किरदार देकर दर्शकों के सामने उनकी अभिनय क्षमता का नया रूप रखा ।

वेलकम फिल्म के ज़रिए बदली छवि

बदलते दौर में नाना ने वर्ष 2007 में प्रदर्शित फिल्म वेलकम में नाना के अभिनय का नया रंग देखने को मिला। इस फिल्म से पहले उनके बारे में कहा जाता था कि वह केवल संजीदा अभिनय करने में ही सक्षम है लेकिन नाना ने जबरस्त हास्य अभिनय कर दर्शको को मंत्रमुग्ध कर अपने आलोचको का मुंह सदा के लिये बंद कर दिया और फिल्म को सुपरहिट बना दिया। नाना ने कई नामचीन मराठी फिल्मो में भी काम किया जिसे उनके फैन्स ने खूब सराहा।

चुनिन्दा फ़िल्में करना ही पसंद किया

नाना उन गिने चुने अभिनेताओं में हैं, जो फिल्म की संख्या के बजाय उसकी गुणवत्ता को अधिक महत्व देते है। इसी को देखते हुये नाना ने अपने तीन दशक लंबे सिने करियर में महज 60 फिल्मों में काम किया है। नाना अभिनीत कुछ अन्य उल्लेखनीय फिल्में हैं-आवाम,अंधा युद्ध, सलाम बॉम्बे, थोड़ा सा रूमानी हो जाये,राजू बन गया जेंटलमैन,अंगार, हम दोनों, अग्निसाक्षी,गुलामे मुस्तफा,यशंवत, युगपुरुष ,क्रांतिवीर, वजूद, हूतूतू ,गैंग, तरकीब, शक्ति, अब तक छप्पन, अपहरण, ब्लफ मास्टर , टैक्सी नंबर नौ दो ग्यारह, हैट्रिक, वेलकम, राजनीति, द अटैक ऑफ 26/11 जैसी फ़िल्में शामिल हैं।

पुरस्कार

अपने बेहतरीन अदाकारी के बदौलत नाना ने कई पुरस्कार जीते जिनमे 1990 में परिंदा फिल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का फिल्मफेअर पुरस्कार जीता। 1995 में फिल्म क्रांतिवीर के लिए फिल्मफेअर ने नाना को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का ख़िताब दिया। 2006 में भी नान ने सर्वश्रेष्ठ खलनायक के लिए फिल्मफेअर पुरस्कार जीता। नाना को 2013 में पद्म श्री सम्मान से भी नवाज़ा गया।

नाना पाटेकर ने नायक,सहनायक,खलनायक और चरित्र भूमिकाओं से फैन्स का दिल जीत लिया । नाना पाटेकर के अभिनय में एक विशेषता रही कि वह किसी भी तरह की भूमिका के लिये सदा उपयुक्त रहते हैं।
Share:

क्या क्या आप जानते है उत्तर प्रदेश के बारे में ये 22 महत्बपूर्ण ज्ञानवर्धक जानकारियाँ

22 Most important Information and unknown facts for General Knowledge in Hindi. क्या क्या आप जानते है उत्तर प्रदेश के बारे में ये 22 महत्बपूर्ण ज्ञानवर्धक जानकारियाँ यदि नहीं तो अवश्य पड़े और अपना जी के ज्ञान बढाये।
उत्तर प्रदेश के बारे में ये 22 महत्बपूर्ण ज्ञानवर्धक जानकारियाँ

1. उत्तर प्रदेश में लगभग 66 प्रतिशत जनसंख्या का मुख्य व्यवसाय कृषि है।

2. राज्य में लगभग 167.50 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में कृषि होती है।

3. 1999 से 2008 के बीच अर्थव्यवस्था में केवल 4.4 प्रतिशत की ही वृद्वि हुई है।

4. गन्ना राज्य की प्रमुख नगदी फसल है।

5. उत्तर प्रदेश आलू, तिलहन का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य है।

6. राज्य में वस्त्रोद्योग और चीनी उद्योग दो महत्वपूर्ण उद्योग हैं। इसके अलावा राज्य में चमड़े का काम

सर्वाधिक मात्रा में होता है। आगरा व कानपुर चमड़े के कारखानों के मुख्य केन्द्र हैं।

7. उत्तर प्रदेश भारत का पांचवां सबसे बड़ा राज्य है।

8. भारत में महाराष्ट्र के बाद उत्तर प्रदेश दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है।

9. उत्तरप्रदेश का जनसंख्या में भारत में पहला स्थान है।

10. उत्तर प्रदेश का भारत के राज्यों में साक्षरता दर में 22 वां स्थान है।

11. कानपुर, नोएडा, मेरठ, मुरादाबाद, अलीगढ़, मिर्जापुर तथा भदोही राज्य के प्रमुख औद्योगिक क्षेत्र हैं।

12. जीएसडीपी: 147 बिलियन अमेरिकी डॉलर (2013-14 अनु.).

13. प्रमुख फसलें : गन्ना, गेंहू, चावल, कपास, चना, मटर, तम्बाकू,तेल के बीज

14. प्रमुख नदियां : गंगा, यमुना, गंडक, गोमती, सरयू, रामगंगा, घाघरा

15. प्रमुख खनिज : लाइमस्टोन, डेलोमाइट

16. राज्य में सड़कों की कुल लम्बाई 131969 किमी. है 

17. राष्ट्रीय राजमार्ग की कुल लम्बाई 3794 किमी. है।
 
18. रेलवे लाइन की कुल लम्बाई 8,900 किमी. है।

19. प्रदेश उत्तरी रेलवे क्षेत्र के अंतर्गत आता है।
 
20. रेलवे के उत्तरी क्षेत्र का मुख्य जंक्शन लखनऊ है। अन्य महत्वपूर्ण जंक्शन हैं– आगरा, कानपुर, 

21. इलाहाबाद,मुगलसराय, झांसी, वाराणसी, टूंडला, गोरखपुर, गोंडा, फैजाबाद, बरेली और सीतापुर।
 
22. प्रदेश में लखनऊ, कानपुर, इलाहाबाद, आगरा, झांसी, वाराणसी, गोरखपुर,बरेली, हिंडन, सहारनपुर और रायबरेली में हवाई अड्डे हैं।
Share:

27 September, 2016

25 Amazing Facts about Water In Hindi – पानी के बारे में 25 रोचक तथ्य

25 Amazing Facts about Water In Hindi – पानी के बारे में 25 रोचक तथ्य शायद नहीं जानते होंगे आप.
यदि नहीं जानते तो इसे अवश्य पड़े . ये आपके जनरल नोलेज को बढायेगा
 
1. पानी का रंग हल्का नीला होता हैं.

2. दुनिया का 1% water ही पीने योग्य है, इसमें से 90% Antarctica में बर्फ के रूप में जमा हुआ हैं और इस 1% साफ water में से 0.003% water use हो चुका हैं. जितना water यूज हो चुका है उसका 70% कृषि में यूज हुआ हैं.

3. हर साल 34 लाख लोगों की मौत पानी से होने वाले रोगों से होती हैं.

4. अफ्रिका के लोग 6KM पैदल चलकर water लाते हैं.

5. एक बार टाॅयलेट फ्लश करने से 6 लीटर water खराब होता हैं.

6. चीन में 70 करोड़ लोग गंदा पानी पीने पर मज़बूर हैं।

7. Swimming pool से हर महीने 3,700 L water भाप बनकर उड़ जाता हैं.

8. गर्म water ठंडे water से जल्दी जमता हैं.

9. साफ पानी में से बिजली पास नही होती, बल्कि उसके अंदर जो गंदगी होती है वह ऐसा करने देती हैं.

10. पूरे घर का दो-तिहाई water बाॅथरूम में प्रयोग होता हैं.

11. ज्यादा water पीने से नशा हो सकता है और आपकी मौत भी हो सकती हैं.

12. दुनिया का 20% साफ व ना जमने वाला जल एक ही झील मे हैं वह है Russia की Baikal झील.

13. पानी की bottle पर जो expiry date लिखी होती हैं वह bottle के लिए होती हैं न कि पानी के लिए।

14. जिराफ ऊँट से ज्यादा समय तक बिना पानी पीए रह सकता हैं.

15. पानी के अंदर सबसे लंबे समय तक साँस रोकने का रिकाॅर्ड 24 मिनट का हैं.

16. 2013 में 2 Physicist ने water के अंदर Tie को बाँधा था.

17. Water की 10 बूंदो के अंदर H20 के molecules और ब्रहमांड में तारे दोनो बराबर संख्या में हैं.

18. हाथी 5KM दूर से ही water का पता लगा सकता हैं.

19. सन् 1970 में अमेरिका जितना water यूज करता था उससे कम तो आज कर रहा हैं.

20. जिस पतली सी पाइप में पानी gravity के opposite ऊपर की ओर चढ़ जाता है उसे हम Capillary tube बोलते हैं.

21. एक गिलास orange जूस बनाने के लिए जितने oranges का इस्तेमाल किया जाता हैं उतने oranges को उगाने के लिए 50 गिलास water का उपयोग होता हैं.

22. शरीर में 1% water की कमी होने पर हमें प्यास लगती है और 10% कमी होने पर मौत हो जाती हैं.
23. अमेरिका में हर रोज 400 billion gallons water इस्तेमाल होता हैं.

24. अगर किसी टूंटी से 1 सैकेंड में 1 बूंद गिर रही हैं तो एक साल में 11,000 लीटर से ज्यादा पानी बर्बाद हो जाएगा.

25. अब हम बताते है कि किसी चीज को बनाने में कितना water लगता हैं

1 ए4 आकार का कागज = 10 लीटर
250 ML बियर = 64 लीटर
1 प्लास्टिक बोतल = 95 लीटर
1 सेब = 125 लीटर
1 केला = 160 लीटर
1 किलो ऊन = 844 लीटर
1 किलो ब्रेड = 1608 लीटर
और आपकी एक जींस बनाने में 8,000 लीटर पानी लगता हैं.
Share:

❊❊ आज का सुविचार ❊❊